चुंबकीय (चुंबकत्व) पेंट

चुंबकत्व और चुंबकीय पेंट के बारे में

हालांकि, कुछ चुंबकों की मदद से ए4 आकार के 20 कॉपीपेपर तक को टांगा जा सकता है, जब कुछ की मदद से मुश्किल से मात्र एक ही शीट टांगा जा सकता है, ऐसा क्यों?

अध्याय

  • चुंबकत्व
  • कोटिंग की मोटाई
  • चिकनी सतह द्वारा बेहतर चुंबकत्व
  • चुंबकीय फॉइलः जबरदस्त चुंबकत्व

चुंबकत्व

सबसे पहलेः चुंबकीय पेंट चुंबकीय नहीं है, यह लौह-चुंबकीय है। जैसा कि सामान्य लोहा। इसका तात्पर्य है कि यह चुंबकों को अपनी ओर आकर्षित करेगा।

पेंट में विशेष लौह चूर्ण की अधिक मात्रा होती है। इससे पेंट भारी हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप इसका घनत्व 2.62 (2.62 किग्रा/लीटर) हो जाता है।

यद्यपि, इसमें अधिक मात्रा में लौह चूर्ण मौजूद होता है, लेकिन इसकी चुंबकीय शक्ति की तुलना लोहे की संपूर्ण प्लेट, जैसे-रेफ्रिजरेटर का दरवाजा से नहीं की जा सकती है। यहीं कारण है कि पेंट में प्रति वर्ग सेंटीमीटर लौह कणों की मात्रा लोहे के प्लेट की तुलना में काफी कम होती है। इसके चलते चुंबकीय शक्ति के लिए चुंबक की गुणवत्ता निर्णायक होती है।

सस्ते (भूरे/काले) चुंबक का इस्तेमाल रेफ्रिजरेटर के दरवाजों में किया जाता है और ये न्यूनतम चुंबकीय शक्ति के साथ अच्छा कार्य करते हैं। हालांकि, अच्छी गुणवत्ता वाले भूरे/काले चुंबक भी हैं, लेकिन उनकी पहचान मुश्किल से की जा सकती है। यहीं कारण है कि मैगपेंट नियोडिमियम चुंबकों के इस्तेमाल की सलाह देता है, जिन्हें उनकी इस्पात की सतह से पहचाना जा सकता है। वे सबसे मजबूत चुंबकीय सामग्रियों से बने होते हैं।

ए4 आकार के केवल एक कॉपीपेपर पकड़े रखने वाले या 20 कॉपीपेपर पकड़े रखने वाले चुंबकों के बीच यहीं अंतर है।

wallmagnets-magnetpaint
ऑफिस में प्रयोग किए जाने वाले चुंबकः डेस्क पर अधिक जगह बनाने के लिए कैलकुलेटर को भी टांग दिया जाता है। स्पष्ट ग्लिटर पेंट (नीला) से टॉपकोटिंग किया गया चुंबकीय पेंट

कोटिंग की मोटाई

प्रति वर्ग मीटर 0.5 लीटर चुंबकीय पेंट से कम का इस्तेमाल कभी भी न करें, अन्यथा चुंबकीय शक्ति घटेगी। प्रति वर्ग मीटर 0.5 लीटर चुंबकीय पेंट से पेंट करने पर कोटिंग की मोटाई लगभग 0.7 मिमी होती है, जो चुंबकों के लिए उपयुक्त है। नियोडिमियम चुंबक का इस्तेमाल किये जाने पर, चुंबकीय पेंट की परत को मोटा बनाकर अतिरिक्त चुंबकीय शक्ति हासिल की जा सकती है। इसका कारण यह है कि नियोडिमियम पेंट में गहराई तक जाता है, जबकि अन्य चुंबक सतह पर ही रहते हैं।

सामान्यतया, चुंबकीय पेंट की दो या तीन कोटिंग से 0.7 मिमी की मोटाई हासिल हो जाती है। हालांकि…यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस तरह से पेंट करते हैं और पेंटिंग के लिए आप किस तरह के उपकरणों का उपयोग करते हैं। कुछ लोग मोटी कोटिंग करते हैं, जबकि अन्य इसे नहीं लगाते। साथ हीः जब आप लैकर रोलर का इस्तेमाल करते हैं, तो कम मात्रा में पेंट लगता है, जबकि लंबे बालों वाले रोलर का इस्तेमाल करने पर अधिक मात्रा में पेंट लगता है। निर्वात तकनीक से छिड़काव कर उपयुक्त चुंबकीय परिणाम (0.7-1.0 मिमी) हासिल किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए ‘प्रयोग’ ‘अप्लिकेशन’ देखें।

चिकनी सतह द्वारा बेहतर चुंबकत्व

लोहे से सबसे नजदीक होने पर चुंबक सर्वोत्तम कार्य करते हैं। इसलिए, पेंट की हुई बहुत ही चिकनी सतह की चुंबकीय शक्ति पेंट की हुई खुरदुरी सतह की तुलना में मजबूत होती है। चुंबक के नीचे के छोटे-छोटे छेद चुंबकीय शक्ति को कमजोर करते हैं, क्योंकि उसमें लोहे के कण नहीं होते हैं।

केवल एक ही चीज इसके अपवादस्वरूप हैः जब सतह की फिनिशिंग बहुत ही चिकने/फिसलन भरे पेंट से की गई होती है, जैसे-ड्राई-इरेज पेंट, तो चुंबकों की पकड़ घटाई जा सकती है। यहीं कारण है कि नियोडिमियम (स्टील) चुंबकों का हमेशा फिसलन भरी सतहों पर इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

चुंबकीय फॉइलः मजबूत चुंबकत्व

चुंबकीय पेंट का सबसे प्रभावी उपयोग चुंबकीय फॉइल के साथ मिलाकर किया जा सकता हैः पेंट से सचमुच भारी या बड़ी चीजें टांगी जा सकती हैं। Mचुंबकीय फॉइल की मदद से सतह का सर्वोत्तम इस्तेमाल किया जा सकता है। फॉइल की पूरी सतह पर चुंबकत्व का प्रयोग किया जाता है।

हालांकि, सतह से अलग करने का काम बेहद आसान होता है और वह स्थिति भी निश्चित की जाती है जब वस्‍तु गिर जाएगी।

उदाहरणः